top of page

Press & Media

Welcome to the Press & Media page of the Moradabad Handicraft Export Association. Discover the latest news, updates, and highlights about our esteemed association, dedicated to promoting and showcasing the finest handcrafted treasures from Moradabad to the world. Stay informed about our upcoming events, industry insights, and inspiring stories that exemplify the rich heritage and craftsmanship of our artisans. Join us on this captivating journey of creativity, innovation, and excellence in the world of handicraft exports.

मुरादाबाद हैंडीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन ने फहराया तिरंगा
Screenshot 2023-07-22 112320.png

आज भारत के 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मुरादाबाद हैंडीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के सदस्यों ने न्यू मुरादाबाद स्थित कार्यालय पर ध्वजारोहण...

आज भारत के 75वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर मुरादाबाद हैंडीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के सदस्यों ने न्यू मुरादाबाद स्थित कार्यालय पर ध्वजारोहण किया। जिसमें एसोसिएशन के महासचिव अवधेश अग्रवाल, सीओए ईपीसीएच नबील अहमद, कार्यकारिणी सदस्य नदीम खान, क़ाज़ी शौकत हुसैन, इनामुर रहमान, सगीर अहमद, इमरान अहमद, तालूत कमाल एवं ईपीसीएच से गुलाब सिंह एवं अलोक पाण्डेय आदि ने ध्वजारोहण में भाग लिया। एसोसिएशन के महासचिव ने सभी को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दीं।

मुरादाबाद हैंडीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के महासचिव ने पीएम मोदी को ल‍िखा पत्र, बताई न‍िर्यातकों की परेशानी
03_04_2021-brass_21523452.jpg

Moradabad Handicrafts Exporters Association निर्यातकों को सरकार की ओर से घोषित योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाने से परेशानी उठानी पड़ रही है। इस मुद्दे को लेकर मुरादाबाद हैंडीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के महासचिव अवधेश अग्रवाल ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है।

मुरादाबाद, जेएनएन। निर्यातकों को सरकार की ओर से घोषित योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाने से परेशानी उठानी पड़ रही है। इस मुद्दे को लेकर मुरादाबाद हैंडीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के महासचिव अवधेश अग्रवाल ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा है।

पत्र में लिखा गया है कि निर्यात उद्योग बेहाल है, कारोबार बंद होने की स्थिति में है। पूर्व में वित्त मंत्रालय व वाणिज्य मंत्रालय कई बार अवगत कराया जा चुका है। निर्यातकों को मिलने वाली वस्तु निर्यात योजना (एमईआइएस) का पैसा वर्ष 2019-20 एवं 2020-21 का सरकार के पास रुका हुआ है | एमईआइएस का पोर्टल किसी भी प्रकार की एप्लीकेशन को स्वीकार नहीं कर रहा है। केवल मुरादाबाद के निर्यातकों के ही करीब 400 करोड़ रुपये रुके हुए हैं। मुरादाबाद में ही लगभग 2500 हस्तशिल्प निर्यातक, प्रत्यक्ष एवं अप्रत्यक्ष रूप से लगभग तीन लाख लोगों को रोजगार उपलब्ध कराते हैं। धन की कमी के कारण निर्यातक न तो विदेशी आर्डर पूरा कर पा रहे हैं न ही कच्चा माल ही खरीद पा रहे हैं, ऐसे में जल्द ही उनके भुगतान कराकर हस्तशिल्प निर्यात उद्योग को आगे बढ़ाने में सहयोग करें।

Source: Jagran

मुरादाबाद हैंडीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के नए भवन का उद्घाटन, म‍िलेंगी कई सुविधाएं
18_12_2020-img-20201218-wa0001_1_21179011_19397190.jpg

एसोसिएशन के नए भवन के उद्घाटन के अवसर पर एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल फॉर हैंडीक्राफ्ट्स के महानिदेशक राकेश कुमार मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद रहे। उन्होंने भवन के बराबर में हस्‍तश‍िल्पियों के उपचार के लिए अस्पताल और उनके बच्चों के लिए स्कूल की आधारशिला रखी।

मुरादाबाद, जेएनएन। निर्यात इंडस्ट्री के लिए शुक्रवार का दिन खास रहा। मुरादाबाद हैंडीक्राफ्ट्स एक्सपोर्टर्स एसोसिएशन के नए भवन का उद्घाटन किया गया। 1953 में बनी एसोसिएशन पिछले 25 सालों से अपना भवन बनाने के लिए प्रयासरत थी। जमीन होने के बाद भी कार्य पूरा नहीं हो पा रहा था। 2018 में बनी एसोसिएशन की कार्यकारिणी के महासचिव अवधेश अग्रवाल ने भवन बनाने का प्रण लिया और डेढ़ साल में उसे पूरा करके दिखाया। 

एसोसिएशन के नए भवन के उद्घाटन के अवसर पर एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल फॉर हैंडीक्राफ्ट्स के महानिदेशक राकेश कुमार मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद रहे। भवन के उद्घाटन से पूर्व उन्होंने भवन के बराबर में हस्‍तश‍िल्पियों के उपचार के लिए अस्पताल और उनके बच्चों के लिए स्कूल की आधारशिला रखी। इस अवसर सांसद डॉ. एसटी हसन ने कहा कि मुरादाबाद में नए भवन से सभी निर्यातकों को लाभ मिलेगा। नियमित रूप से बैठक होगी, आपस में समस्याओं की चर्चा होने से उनका समाधान निकालने में सहयोग मिलेगा। उन्होंने कहा कि मुरादाबाद में दस्तकारों के सामने नई समस्याएं खड़ी हो रहींं हैंं। प्रदूषण के कारण शहर से इंडस्ट्री को बाहर निकाले जाने की तैयारी की जा रही है। उन्होंने ईपीसीएस के महानिदेशक से कहा कि वे सभी निर्यातकों के साथ मिलकर प्रयास करें कि शहर में जो करीब 10,000 भट्ठियां चल रहींं हैं वे सभी बाहर ना जाएं, क्योंकि वे बेहद गरीब लोग हैं। उनकी रोजी-रोटी छिन जाएगी और बाहर भी जमीन खरीद कर अपना काम धंधा शुरू नहीं कर सकेंगे। इसके लिए उन्हें सब्सिडी पर गैस भट्टी उपलब्ध करवाई जाएं। महानिदेशक राकेश कुमार ने कहा कि मुरादाबाद के निर्यातकों ने जो कार्य करके दिखाया वह अपने आप में अनूठा है। यह ऐसी उपलब्धि जो हमेशा याद रखी जाएगी।

Source: Jagran

bottom of page